उपसर्ग की परिभाषा-Definition of prefix

उपसर्ग वे शब्दांश है जो शब्दों के पूर्व में जुडकर उनके अर्थ बदल देते हैं, या उनमे कोई विशेषता उत्पन्न कर देते हैं वे उपसर्ग कहलाते हैं।
जैसे हार शब्द का अर्थ है पराजय। इसी शब्द के आगे` प्र’ शब्दांश को जोड़ने से नया शब्द बनेगा – प्रहार – (प्र + हार) इत्यादि शब्द बन जाएंगे
● हिंदी में प्रचलित उपसर्गो को निम्नलिखित भागों में विभाजित किया जा सकता है-
1. सँस्कृत के उपसर्ग (संख्या-22)
2. हिंदी के उपसर्ग (संख्या-13)
3. उर्दू और फ़ारसी के उपसर्ग (संख्या-19)
4. अंग्रेजी के उपसर्ग
5. उपसर्ग के समान प्रयुक्त होने वाले सँस्कृत के अव्यय।
1. सँस्कृत के उपसर्ग
उपसर्ग—–अर्थ———-शब्द
1. अति—–अधिक—–अत्यधिक, अतिरिक्त, अत्यंत
2. अधि—–ऊपर—–अधिकार, अधिपति, अधिनायक
3. अनु—–पीछे—-अनुचर, अनुसार, अनुशासन
4. अप—-बुरा—–अपयश, अपमान, अपकार
5. अभि—सामने—अभियान, अभिषेक, अभिनय
6. अव—-नीच—–अवगुण, अवतार, अवतरण
7. आ—-तक—–आजीवन, आगमन, आरक्षण
8. उत—–ऊँचा—उत्कर्ष, उत्तम, उत्तपत्ति
9. उद—–ऊपर—-उदगम, उद्भव
10. उप—–निकट—उपदेश, उपवन, उपहार
11. दुर—–बुरा——दुर्जन, दुर्गम, दुराचार
12. दुस्—-बुरा—–दुष्चरित्र, दुस्साहस, दुष्कर
13. निर्—-बहार—-निरपराध, निर्जन निर्गुण
14. निस्—-पूरा—–निस्सार, निश्चल, निश्चित
15. नि—–निषेध—-निवारण, निपात, निषेध
16. परा—-उल्टा—-पराजय, पराक्रम, परामर्श
17. परि—-आसपास—परिजन, परिक्रमा, परिपूर्ण
18. प्र—–अधिक—–प्रख्यात, प्रस्थान, प्रकृति
19. प्रति—उलटा—-प्रतिकूल, प्रत्यक्ष, प्रत्येक
20. वि—-भिन्न—–विदेश, विलाप, वियोग
21. सम्—-उत्तम—-संस्कार, संगम, संभव
22. सु—-अच्छा—-सुजन, सुगम, सुशिक्षित
2.हिन्दी के उपसर्ग
उपसर्ग—–अर्थ———-शब्द
1. आ—-निषेध—–अछूता, अथाह, अटल
2. अन—अभाव—-अनमोल, अनबन, अनपढ़
3. क—-हीन——कपूत, कचोट
4. कु—बुरा—–कुचाल, कुचैला, कुचक्र
5. दु—-कम—दुबला, दुलारा, दुधारू
6. नि—कमी—निगोड़ा, निडर, निकम्मा
7. औ—निषेध—औगुन, औसर, औसान
8. भर—पूरा—-भरपेट, भरपूर, भरमार
9. सु—-अच्छा—सुडौल, सुजान, सुफल
10. अध—आधा—अधपका, अधमरा, अधकच्चा
11. उन—एक कम—उनतीस, उनचालीस, उनसठ
12. पर—दूसरा—-परलोक, परोपकार, परहित
13. बिन—बिना—-बिनजाने, बिनपाए, बिनबादल
3अरबी फारसी के उपसर्ग
उपसर्ग—–अर्थ———-शब्द
1. अल——निश्चित—–अलबत्ता, अलगरज
2. कम—-थोड़ा——–कमजोर, कमबख्त
3. खुश—अच्छा—खुशनसीब, खुशखबरी, खुशबू
4. गैर—-निषेध—गैरहाजिर, गैरकानूनी, गैरमुल्क
5. दर—में—–दरअसल, दरहक़ीक़त
6. ना—-अभाव—-नापसंद, नासमझ, नालायक
7. फिल/फी—में,प्रति—-फिलहाल, फीआदमी
8. ब—-और—-बनाम, बदौलत, बगैर
9. बा—सहित—-बाकायदा, बाइज्जत, बामौका
10. बद—बुरा—बदमाश, बदनाम, बदबू
11. बर—ऊपर—बरदाश्त, बरखास्त
12. बे—-बिना—बईमान, बेचारा, बेवकूफ
13. बिल—के साथ—बिलआख़िर, बिलकुल
14. बिला—बिना—-बिलावजह, बिलाशक
15. ला—रहित—लापरवाह, लाचार
16. सर—मुख्य—सरताज, सरदार
17. हम—समान—हमदर्दी, हमराह
18. हर—प्रत्येक—-हरदिन, हरसाल, हरबार
4अंग्रेजी के उपसर्ग
उपसर्ग—–अर्थ———-शब्द
सब—– अधीन—–सब-जज, सब-कमेटी, सब-इंस्पेक्टर
जनरल—-प्रधान—-जनरल मैनेजर, जनरल सेक्रेटरी
5. उपसर्ग के समान प्रयुक्त होने वाले सँस्कृत के अव्यय।
उपसर्ग—–अर्थ———-शब्द
अध:—–नीचे—– अध:पतन, अधोमुखी, अधोलिखित
चिर—बहुत देर—–चिरंजीवी, चिरकुमार, चिरायु