छायावादोत्तर युगीन रचना एवं रचनाकार हिंदी

● केदारनाथ सिंह की रचनाएं – नींद के बादल, फूल नही रंग बोलते हैं,अपूर्व, युग की गंगा

● आरसी प्रसाद सिंह की रचनाएं – कलापी, पांचजन्य

● नागार्जुन की रचनाएं – प्यासी पथराई आँखे, युगधारा, भस्मांकुर, सन्तरगे पँखो वाली,ऐसी भी हम क्या, ऐसे भी तुम क्या, खिचड़ी विप्लव देखा हमनें, हजार हजार बाहों वाली, पुरानी जूतियों का कोरस,रत्नगर्भ, हरिजन गाथा

● रांगेय राघव की रचनाएं – राह के दीपक, अजेय खण्डहर, पिघलते पत्थर, मेधावी, पांचाली

● गिरिजाकुमार माथुर की रचनाएं – मंजीर, कल्पांतर, शिलापख चमकीले, नाश ओर निर्माण,मशीन का पूजा, धूप के धान, मैं वक्त के हूँ सामने, छाया मत छूना मन

● गजानन माधव मुक्तिबोध की रचनाएं – भूरी-भूरी खाक धूल, चाँद का मुंह टेढ़ा हैं<

● भवानीप्रसाद मिश्र की रचनाएं – सतपुड़ा के जंगल, गितफ़रोश, खुशबू के शिलालेख, बुनी हुई रस्सी,कालजयी, गांधी पंचशती, कमल के फूल, इदं न मम, चकित है दुःख, वाणी की दीनता

● सच्चिदानंद हीरानन्द वात्सायन( अज्ञेय) की रचनाएं- भग्नदुत, चिंता, इत्यलम, हरी घास पर क्षण भर,बावरा अहेरी, इंद्रधनुष रौद्रे हुए ये, आरी ओ करुणा प्रभामय, आँगन के पार द्वार, कितनी नावों में कितनी बार,क्योकि मैं उसे जनता हूँ, सागर मुद्रा, पहले मैं सन्नाटा बुनता हूँ, महाव्रक्ष के नीचे, नदी की बांक पर छाया,प्रिजन डेज एंड अदर पोएम्स ( अंग्रेजी में ), असाध्य विणा, रूपाम्बर

● धर्मवीर भारती की रचनाएं – अंधायुग, कनुप्रिया, ठंडा लोहा, सात गीत वर्ष

● रामधारी सिंह दिनकर की रचनाएं – हुंकार, रेणुका, द्वंद्वगीत,कुरुक्षेत्र, इतिहास के आंसू, रश्मिरथी,धूप और धुँआ, दिल्ली, रसवंती, उर्वशी

● बालकृष्ण शर्मा नवीन की रचनाएं – कुंकुम, उर्मिला, अपलक, रश्मिरेखा, क्वासी, हम विषपायी जनम के

● हरिश्वराय वच्चन की रचनाएं – मधुशाला, मधुबाला, मधुकलश,सूत की माला, निशा निमन्त्रण, एकांत संगीत, सन्तरगिनी, मिलन-यमनी,आरती और अंगारे, आकुल अंतर

● सुमित्रा नन्दन पंत की रचनाएं – शिल्पी, अतिमा, कला और बूढा चांद,लोकायतन, सत्यकाम

● जानकी वल्लभ शास्री की रचनाएं – मेघगीत, अवंतिका

● नरेन्द्र शर्मा की रचनाएं – प्रभातफेरी, प्रवासी के गीत, पलाश वन,मिट्टी और फूल, कदलीवन

● लाल रामेश्वर शुक्ल की रचनाएं – मधूलिका, अपराजिता, किरणबेला

● अंचल की रचनाएं – चुनर