पर्यायवाची शब्द- Paryayavachi shabd in Hindi

पर्यायवाची शब्द : ऐसे शब्द जिनके अर्थ में समानता हो, पर्यायवाची शब्द कहलाते हैं।
अंग = अंश, अवयव, हिस्सा, भाग।
अंधकार = पावक, ज्वाला, अनल, दहन, वहि, वैश्वानर, धूम्रकेतु, कृशानु, जातदेव, आग।
अनुपम = अनुण, अपूर्व, अद्वितीय, अद्भुत, अतुल, अनोखा।
अन्वेषण = अनुसंधान, खोज, गवेषण, जाँच, छानबीन, पूछताछ, शोध।
अभिमान = अस्मिता, अहंभाव, अहं, अहंकार, अहम्मन्यता, आत्मश्लाघा, गर्व, घमण्ड, दर्प, दंभ ,मद, मान, मिथ्याभिमान।
अमृत = सोम, सुधा, अमिय, पीयूष, मधु, अमी, सुरभोग।
अरण्य = जंगल, वन, कानन, अटवी, कान्तार, विपिन।
अश्व = तुरंग, हय, घोङा, घोटक, बाजि, सैंधव।
असुर = दनुज, दानव, दैत्य, राक्षस, तमीचर, निशाचर, निशिचर, सुरारि, रजनीचर, ययातुधान, इंद्रारि।
अनी = कटक , दल, सेना, फ़ौज , चमू, अनीकिनी।
आँख = नयन, लोचन, चक्षु, नेत्र, अक्षि, द्रग।
आँगन = अंगना, अजिरा, प्रागड़ण।
आकाश = गगन, नभ, अम्बर, व्योम, अंतरिक्ष, अनन्त, आसमान, शून्य, पुष्कर, अभ्र, तारापथ।
आनन्द = सुख, हर्ष, प्रसन्नता, प्रमोद, उल्लास, आह्ललाद।
आम = आम्र, रसाल, पिकबन्दु, सहकार, अतिसौरभ, अमृतफल।
आश्रय = मठ, विहार, कुटी, अखाड़ा, संघ।
इच्छा = आकांक्षा, अभिलाषा, मनोरथ, स्प्रहा, चाह, कामना, ईहा, वासना।
इंद्र = सुरपति, देवराज, महेन्द्र, मधवा, शचीपति, पुरन्दर, सुरेश, देवेन्द्र, मेघवाहन, पुरुहूत, यासव।
इंद्राणी = इन्द्रवधू, मधवानी, शची, शतावरी, पोलोमी।
ईश्वर = परमात्मा, परमेश्वर, भगवान, ब्रह्मा, जगदीश, अगोचर, अनन्त, जगन्नाथ, परमेश, जगतप्रभु।
उक्ति = कथन, वचन, सूक्ति।
उग्र = प्रचंड, उत्कट, तेज, महादेव, तीव्र, विकट।
उचित = ठीक, मुनासिब, वाजिब, समुचित, युक्तिसंगत, न्यायसंगत, तर्कसंगत, योग्य।
उच्छृंखल = उद्दंड, अक्खड़, आवारा, अंडबंड, निरकुंश, मनमर्ज़ी, स्वेच्छाचारी।
उजड्ड = अशिष्ट, असभ्य, गंवार, जंगली, देहाती, उद्दंड, निरंकुश।
उजला = उज्ज्वल, श्वेत, सफेद, धवल।
उजाड = जंगल, बियावान, वन।
उजाला = प्रकाश, रोशनी, चाँदनी।
उत्कष = सम्रद्धि, उन्नति, प्रगति, प्रशंसा, बढ़ती, उठान।
उत्कृष्ट = उत्तम, उन्नत, श्रेष्ठ, अच्छा, बढ़िया, उम्दा।
उत्कोच = घूस, रिश्वत।
उत्पति = उदगम, पैदाइश, जन्म, उदभव, सृष्टि, आविर्भाव, उदय।
उद्वार = मुक्ति, छुटकारा, निस्तार, रिहाई।
उपाय = युक्ति, साधन, तरकीब, तदबीर, यत्न, प्रयत्न।
ऊधम = उपद्रव, उत्पात, धूम, हुल्लड़।
ऋषि = मुनि, साधु, यती, सन्यासी, तत्वज्ञ, तपस्वी।
ऐक्य = एकत्व, एका, एकता, मेल।
ऐश्वर्य = सम्रद्धि, विभूति।
ओज = तेज, शक्ति, बल, वीर्य।
औजक = अचानक, यकायक, सहसा।
औरत = स्त्री, जोरू, घरनी, घरवाली।
कपड़ा = चीर, बसन, पट, अम्बर, वस्त्र।
कमल = कज, पंकज, जलज, सरोज, नीरज, अम्बुज, वारिज, इन्दीवर, राजीव, उत्पल, अरविंद।
कमला = इंदिरा, पद्मा, पद्मालया, पद्मासना, भार्गवी, रमा, लक्ष्मी, लोकमाता, विष्णुप्रिया, श्री, समुन्द्रजा, सिन्धुजा, हरिप्रिया।
कामदेव = काम, मदन, मनोज, मयन, अनग, पंचशर, मन्मथ, रतिपति, मनसिज, पुष्पधन्वा, स्मर, मीनकेतू, मकरध्वज।
कार्तिकेय = कुमार, षडानन, शरभव, स्कन्द।
किरण = रश्मि, मयूख, मरीचि, अंशु, कर, ज्योति, दीप्ति, प्रभा।
कुबेर = अनद, यक्षराज, धनाधिप, किन्नरेश, राजराज।
कोकिल = कोयल, पिक, बसन्तदुत, कोकिला, परभूत।
कपोत = कबूतर, हारीत, रक्तलोचन।
कुत्ता = श्वा, श्वान, कुक्कुर, शुनक, सारमेव।
कृष्ण = मोहन, मुरारी, गोपाल, गिरिधर, केशव, वासुदेव, नन्दनन्दन, राधारमण, दामोदर, ब्रजवल्लभ, गोपीनाथ, मुरलीधर, द्वारिकाधीश, यदुनन्दन, कंसारि, रणछोड, बंशीधर।
कल्पद्रुम = देवद्रुम, कल्पवृक्ष, पारिजात, मन्दार, हरिचंदन।
काक = कौआ, वायस, काग, करठ, पिशुन।
कृपा = दया, अनुग्रह, अनुकम्पा।
क्रोध = कोप, रोष, अमर्ष, गुस्सा, आक्रोश।
खग = विहग, विहंग, पक्षी, द्विज, चिड़िया, पंछी, शकुनि, पखेरू।
खंभा = स्तूप, स्तम्भ, खंभ।
खल = दुर्जन, दुष्ट, धूर्त, कुटिल।
खून = रक्त, लहू, रुधिर।
गंगा = सुरसरि, सुरसरिता, अमरतरंगिनी, भागीरथी, मन्दाकिनी, देवनदी, जाहवी, देवपगा, त्रिपथगा, विष्णुपदी, नदीश्वरी।
गणेश = गणपति, गजबदन, गजानन, लम्बोदर, एकदन्त, भवानीनन्दन, वक्रतुण्ड, गौरिसुत, मोदकप्रिय, विनायक।
गरुड़ = खगेश, पन्नगारि, उरगारि, हरियान, वातनेय, खगपति, सुपर्ण, विषमुख।
गदहा = खर, गर्दभ, बेसाखनन्दन, रासभ, धूसर, वेशर, चक्रीवान।
गेह = भवन, सदन, घर, मंदिर, निकेतन, आवास, निवास, धाम, गृह, आलय, आगार, ओक, निलय।
गाय = गौ, धेनु, सुरभि, गौरी, भद्रा, दुग्धी।
घट = घड़ा, कलश, कुम्भ, निप।
घर = आलय, आवास, गेह, गृह, निकेतन, निलय, निवास, भवन, वास, वास- स्थान, शाला, सदन।
घृत = घी, अमृत, नवनीत।
घास = दूर्वा, दुब, कुश, शाद, तृण।