मुगलों की राजकीय भाषा

मुगलों की राजकीय भाषा फारसी थी|महाभारत फारसी भाषा में रज्मनामा नाम से अनुवाद बदायूनी, नकीब खां एवं अब्दुल कादिर ने किया था|