HINDI

ज्ञानपीठ पुरुस्कार विजेता

ज्ञानपीठ पुरुस्कार विजेता                   वर्ष             लेखक 1968 सुमित्रानंदन पंत (चिदम्बरा) 1972 रामधारी सिंह दिनकर (उर्वशी) 1978 सच्चीदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञय (कितनी नावों में कितनी बार) 1982 महादेवी वर्मा (यामा) 1992 नरेश मेहता 1999 निर्मल वर्मा 2005 कुंवर नारायण 2009 श्रीलाल शुक्ल 2013 केदारनाथ सिंह 2017 क्रष्णा सोबती         समास

समास

                          समास समास का शाब्दिक अर्थ हें संक्षिप्त या संक्षेप   जेसे – राजपुत्र , देशभक्ति परिभाषा – दो या दो से अधिक शब्दों से मिलकर बे एक नये साथर्क शब्दों को समास कहते हें| समास के 6 प्रकार के होते हें – याद करने की ट्रिक – अब तक दादा (अ)- अव्ययीभाव समास (ब)- …

समास Read More »

तत्पुरुष समास

तत्पुरुष समास – जिस समास में पद चिन्हों का लोप रहता हें एवं उत्तर पद की प्रधानता रहती हें वहां तत्पुरुष समास होता हें| उदाहरण- देवपुत्र = देव का पुत्र राजकन्या- राजा की कन्या कारक विभक्तियों के अनुसार तत्पुरुष समास सात प्रकार के होते हें| कर्म तत्पुरुष समास – ग्रहागत = ग्रह को आगत, स्वर्गप्राप्त …

तत्पुरुष समास Read More »

अव्ययीभाव समास

अव्ययीभाव समास – जिस समास का पहला पद अव्यय हो और जो क्रिया विशेषण के रूप में प्रयुक्त हो उसे अव्ययीभाव समास कहते हें| उदाहरण- प्रतिदिन = प्रत्येक दिन = दिन-दिन प्रतिवर्ष =  प्रत्येक वर्ष = वर्ष- वर्ष यथाविधि = विधि के अनुसार रातोरात = रात ही रात आजीवन = जीवन-पर्यन्त

कर्मधारय समास

कर्मधारय समास-  जिस समास का उत्तर पद प्रधान हो और पूर्व और उत्तर पद में विशेषण और विशेष्य अथवा उपमेय और उपमान का सम्बंध स्थापित हो वह कर्मधारय समास कहलाता हें| नोट- जिस वस्तु का वर्णन हो रहा हें, उदाहरण- चरण कमल, म्रगनयन, महाजन,गुरुदेव,पकोड़ी,कुपुरुष, लालमणि, अधमरा, सदभावना, मंदबुद्धि, दही बड़ा, लाल टोपी, काला घोडा, महादेव, …

कर्मधारय समास Read More »

बहुब्रीहि समास

बहुब्रीहि समास – जिस समस का न प्रथम पद प्रधान हो और न ही द्वितीय पद प्रधान हो , बल्कि इसको मिलाकर तीसरे पद का निर्माण हो तो वह बहुब्रीहि समास कहलाता हें| उदाहरण– * चक्रपाणि,लम्बोदर, निशाचर,बरहासिघा,त्रिनेत्र,पंचानन,पंचवटी,चतुरानन,प्रधानमन्त्री,गिरिधर, अजातशत्रु,पंकज आदि शब्द दशानन – दस हें अन्न जिसके = अर्थात- रावण (बहुब्रीहि समास)

द्विगु समास

                          समास समास का शाब्दिक अर्थ हें संक्षिप्त या संक्षेप   जेसे – राजपुत्र , देशभक्ति परिभाषा – दो या दो से अधिक शब्दों से मिलकर बे एक नये साथर्क शब्दों को समास कहते हें| समास के 6 प्रकार के होते हें – याद करने की ट्रिक – अब तक दादा (अ)- अव्ययीभाव समास (ब)- …

द्विगु समास Read More »

द्वन्द समास

                          समास समास का शाब्दिक अर्थ हें संक्षिप्त या संक्षेप   जेसे – राजपुत्र , देशभक्ति परिभाषा – दो या दो से अधिक शब्दों से मिलकर बे एक नये साथर्क शब्दों को समास कहते हें| समास के 6 प्रकार के होते हें – याद करने की ट्रिक – अब तक दादा (अ)- अव्ययीभाव समास (ब)- …

द्वन्द समास Read More »