Pronoun in Hindi सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदहारण

सर्वनाम की परिभाषा : संज्ञा के स्थान पर प्रयुक्त होने वाले शब्दों को सर्वनाम कहते हैं। जैसे: मैं, तुम, हम, वे, आप, आदि शब्द सर्वनाम है।
सर्वनाम का शाब्दिक अर्थ है – सबका नाम। ये शब्द किसी व्यक्ति विशेष के द्वारा प्रयुक्त न होकर सबके द्वारा प्रयुक्त होते हैं तथा किसी एक का नाम न होकर सबका नाम होते हैं। मैं का प्रयोग सभी व्यक्ति अपने लिए करते हैं, अतः मैं किसी एक का नाम न होकर सबका नाम अर्थात सर्वनाम है।


हिंदी में ग्यारह सर्वनाम हैं – मैं, आप, वह, यह, जो , सो, कोई, कुछ, कौन, क्या। प्रयोग के अनुसार सर्वनाम के छह भेद हैं।
1. पुरुषवाचक
2. निजवाचक
3. निश्चयवाचक
4. अनिश्चयवाचक
5. सम्बन्धवाचक
6. प्रश्नवाचक।
1. पुरुषवाचक सर्वनाम : पुरुषवाचक सर्वनाम किसी व्यक्ति के नाम के बाद आता है। उत्तम पुरूष में वक्ता या लेखक होता है, मध्यम पुरूष में पाठक या श्रोता तथा अन्य पुरुष में लेखक पाठक या वक्ता, श्रोता के अतिरिक्त अन्य लोगों आते हैं।
उत्तम पुरूष – मैं, हम (बहुवचन)
मध्यम पुरूष – तू, या तुम, आप, आप लोग
अन्य पुरुष – वह, यह, वे, ये (बहुवचन)
2. निजवाचक सर्वनाम : निजवाचक सर्वनाम का रूप आप है, लेकिन पुरुषवाचक सर्वनाम मध्यम पुरूष (बहुवचन) में प्रयुक्त होने वाले आप से भिन्न होता है। इस सर्वनाम का प्रयोग किसी निराकरण तथा अवधारण के लिए होता है।
जैसे – मैं आप ही चला आया था।
3. निश्चयवाचक सर्वनाम : निश्चयवाचक सर्वनाम जिस शब्द के प्रयोग से वस्तु तथा वक्ता की दूरी का पता चलता है, उसे निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं।
जैसे – वह, यह
यह कोई भला काम नहीं है।
वह कौन आ रहा है?
4. अनिश्चयवाचक सर्वनाम :जिस सर्वनाम से किसी निश्चित वस्तु का बोध न हो, उसे अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहा जाता है।
जैसे – कोई, कुछ
उसने कुछ खाया कि नही?
कोई आ रहा है।
5. सम्बन्धवाचक सर्वनाम : जिस सर्वनाम से वाक्य में किसी दूसरे सर्वनाम से सम्बंध स्थापित किया जाए, उसे सम्बन्धवाचक सर्वनाम कहते हैं।
जैसे – जो, सो
वह कौन है जो हंस रहा है?
वह जो हैं सो है ही।
6. प्रश्नवाचक सर्वनाम : प्रश्न करने के लिए जिन सर्वनामों का प्रयोग होता है, उसे प्रश्नवाचक सर्वनाम कहते हैं।
जैसे – कौन, क्या।
वह कौन जा रहा है?
तुमने क्या खाया है?